Toll Free No. 1800-121-1711
Specialty Medicine with Commitment, Compassion and Care

Events & Events

Survivor Stories

View all

Home / Testimonial

भगवान महावीर कैंसर चिकित्सालय ने नागौर की बेटी को दिया नया जीवन

नागौर जिले के छोटे से गांव गेलासर की बेबी रिंकु का जुलाई, 2015 से गंभीर प्रकृति के रक्त कैंसर का उपचार भगवान महावीर कैंसर चिकित्सालय में हो रहा है। सार्थक उपचार के फलस्वरूप बेबी रिंकु आज पूरी तरह स्वस्थ एवं कैंसर मुक्त है।

जीवनदान परियोजना के तहत उपचार

चिकित्सालय की वरिष्ठ उपाध्यक्षा श्रीमती अनिला कोठारी ने बताया कि बेबी रिंकु के परिजन उपचार का भार उठाने में असमर्थ थे इसलिए चिकित्सालय की जीवनदान परियोजना के तहत इसका उपचार करवाया गया।

उपचार का अनुमानित खर्च 5 से 6 लाख रूपये।

डॉ. उपेन्द्र शर्मा, वरिष्ठ रक्त कैंसर विशेषज्ञ ने बताया कि बेबी रिंकु को एक्यूट लिम्फोब्लॉस्टिक ल्यूकीमियां नामक रक्त कैंसर है। इस बिमारी का आज सम्पूर्ण सार्थक सफलतम उपचार उपलब्ध है। इसके उपचार में लगभग 5 से 6 लाख रूपये का खर्च आता है।

क्या है जीवनदान परियोजना?

  • परियोजना के तहत निम्नलिखित उपचार साध्य रक्त कैंसर से पीड़ित 14 वर्ष तक बच्चों का सम्पूर्ण उपचार निःशुल्क उपलब्ध कराया जा रहा हैः-
    • 1.अक्यूट लिम्फोब्लॉस्टिक ल्यूकीमियां लो रिस्क (ए.एल.एल)
    • 2.अक्यूट प्रोमाइलोसाइटिक ल्यूकीमियां (ए.पी.एम.एल)
    • 3.होजकिन्स लिम्फोमा (एच.डी)

मार्च, 2017 तक तक इस परियोजना के तहत कुल 81 बच्चों को उपचार के लिए पंजीकृत किया जा चूका है।

मदद नहीं मिलती तो नहीं करवा पाता उपचार

बेबी रिंकु के पिता हरिराम पेशे से खेतीहर मजदूर है एवं 4 से 5 हजार रूपये प्रतिमाह की आमदनी से अपनी रोजी रोटी चलाते है। हरिराम ने बताया कि यदि भगवान महावीर कैंसर चिकित्सालय द्वारा उपचार में मदद नहीं की जाती तो वह अपनी बेटी का उपचार नहीं करवा पाता।

अहमदाबाद के चिकित्सालय ने उपचार के लिए भगवान महावीर कैंसर चिकित्सालय में किया रैफर

बेबी रिंकु की बिमारी के बारे में बताते हुये उसके पिता हरिराम ने बताया कि जुलाई, 2015 में रिंकु को हल्का बुखार हुआ जो तीन-चार दिन तक सही नहीं हुआ। तीन-चार दिन बाद बुखार के साथ-साथ पांव में दर्द हुआ तो कुचामन में एक निजी चिकित्सक को दिखाया, चिकित्सक ने पैर में फ्रैक्चर का अंदाज लगाकर प्लास्टर कर दिया। इसके बाद भी रिंकु की स्थिति में कोई सुधार नहीं होता देख वापस चिकित्सक को कुचामन दिखाया, चिकित्सक ने अजमेर रैफर कर दिया। अजमेर के अस्पताल में परिक्षण से पता चला कि रिंकु को रक्त कैंसर है। किसी जानकार ने रिंकु को अहमदाबाद ले जाने की सलाह दी। अहमदाबाद के चिकित्सालय द्वारा जयपुर के भगवान महावीर कैंसर चिकित्सालय में ले जाने की सलाह दी। सार्थक उपचार के फलस्वरूप बेबी रिंकु आज पूरी तरह स्वस्थ एवं कैंसर मुक्त है।